क्या आप जानते है, टेलीफोन का आविष्कार किसने और कब किया?

क्या आप जानते है, टेलीफोन का आविष्कार किसने और कब किया? : नमस्कार दोस्तों टेलीफोन का उपयोग तो हम हररोज करते है, और अभी की तारीख में टेलीफोन हमारे जीवन का एक अहम् हिस्सा बन चुकी है। टेलीफोन एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जिसे हम किसी किसीको भी कही भी हो तो हम उससे बात कर सकते है। लेकिन कभी कबार हमारे मन में एक ख़याल तो जरूर आता है की हम बिना किसी तार के किसी से कैसे बात कर सकते है ? और इसका आविष्कार किसने और कब किया होगा? तो दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आए है एक ऐसा मजेदार आर्टिकल जिसमे हम आपको बताएँगे टेलीफोन का आविष्कार किसने, कैसे और कब किया ?

टेलीफोन का आविष्कार किसने किया ? यह बात बताने से पहले हम आपको यह बता देते है की टेलीफोन क्या है ? तो दोस्तों बने रहे हमारे साथ इस आर्टिकल में।

यह भी पढ़े : DNA ki khoj kisne ki ? DNA kyaa hai ? || DNA के बारे में सारी जानकारी जाने यहां क्लिक करके

टेलीफोन क्या है?

टेलीफोन विज्ञानं और टेक्नोलॉजी का एक ऐसा यंत्र है, जिससे हम दो या अधिक व्यक्तिओ के साथ दुनिया के किसी भी कोने में बैठे बैठे वार्तालाप कर सकते है। अगर हम सरल भाषा में बात करे तो ‘Telephone’ एक ऐसा टेलीकम्युनिकेशन डिवाइस है जिसकी मदद से एक दूसरे से दूर होते हुए भी दो या दो से अधिक व्यक्ति आपस में बात कर सकते हैं। भले ही हमे आज अपने स्मार्टफोन में दुनिया भर की टेक्नोलॉजी और फीचर्स मिलते हैं लेकिन टेलीफोन का मुख्य उपयोग किसी दूर बैठे हुए व्यक्ति से वर्चुअली बात करना ही होता हैं.

टेलीफोन क्या है?

अगर थोड़ा अधिक गहराई से समझा जाए तो टेलीफोन एक ऐसा उपकरण है जो किसी भी ध्वनि (मुख्य रूप से मानव की आवाज – Human Voice) को Electronic Signals में कन्वर्ट करता हैं जो की केबल या किसी अन्य माध्यम से दूसरे टेलीफोन तक पहुचती है और सामने वाले व्यक्ति को ध्वनि के रूप में सुनाई देती हैं.

आज के समय में telephone पहले से काफी बदल चुका हैं. अब हम एक ऐसे युग में जी रहे हैं जहां सब कुछ वायरलेस है लेकिन पहले टेलीफोन के आविष्कार के समय ऐसा नहीं था. तब केबल्स का उपयोग करके एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक आवाज पहुचाई जाती थी.

टेलीफोन का आविष्कार किसने और कब किया?

टेलीफोन

दोस्तों दुनिया की सबसे बड़वे आविष्कारों में टेलीफोन का आविष्कार भी शामिल है। और टेलीफोन का आविष्कार 2 जून 1875 में स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के दुयारा किया गया था। दुनिया में टेलीफोन का आविष्कार सबसे पहले स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के दुयारा सन 1875 में किया गया था। टेलीफोन के इस आविष्कार को सरल बनाने के लिए एलेक्जेंडर ने दूसरे वैज्ञानिक टॉमस वॉटसन के पास सहायता ली थी। और इस तरह से अलेक्जेंडर ग्राहम बेल व् सहायक वैज्ञानिक टॉमस वॉटसन दोनों ने मिलकर टेलीफोन का आविष्कार किया।

आज के समय में हम जो स्मार्टफ़ोन या मोबाइल का उपयोग कर रहे है उसे पहले टेलीफोन का रूप हुआ करता था। विज्ञान की महत्वपूर्ण अबिष्कारो में से एक है टेलीफोन की आविष्कार जो 21वीं सदी में दूर संचार का रूप ही बदल दिया था। सबसे पहले टेलीफोन का आविष्कार 2 जून बर्ष 1875 में स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के दुयारा किया गया था। सबसे पहले टेलीफोन का आविष्कार 2 जून बर्ष 1875 में स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के दुयारा किया गया था और टेलीफोन की आविष्कार में अलेक्जेंडर ग्रह बेल ने टॉमस वॉटसन के पास सहायता ली थी। फिर इसके बाद 7 मार्च और बर्ष 1876 में अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने टेलीफोन आविष्कार को अपने नाम पर पेटेंट करवा लिया और वह टेलीफ़ोन का आविष्कारक बन गए।

धीरे-धीरे यह आविष्कार अमेरिका में फैलने लगा और बर्ष 1880 तक अमेरिका में 49,000 से ज्यादा टेलीफोन लग चुके थे, जो स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के लिए एक बड़ी उपलब्धि थी।

इसके अलाबा भी आपको जानना जरीरु है की टेलीफोन का आविष्कार अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था लेकिन आप यह गूगल पर सर्च करोगे तो आपको 3 और वैज्ञानिक के नाम भी दिखाई देंगे जिसमें से पहले नाम पार ही होगा अलेक्जेंडर ग्राहम बेल का नाम दूसरा नाम है अंटोनिओ मुक्की और तीसरा नाम है अमोस डॉल्बेयर। टेलीफोन के आविष्कार में अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के साथ-साथ और भी कई नाम शामिल थे जैसेकि: चार्ल्स ग्राफ्टों पेज, चार्ल्स बोउर्सुल, इन्नोसेंज़ो मन्जित्ती, जोहन फिलिप्प राइस, एलिशा ग्रे, अंटोनिओ मुक्की जैसे वैज्ञानिकों ने अपना योगदान दिया है|

यह भी पढ़े : Ladkiyo se baat karne wala apps || लड़कियों से बात कैसे करे?

फिर आखिर में 10 मई और बर्ष 1876 को अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने टेलीफोन को अमेरिकन अकादमी ऑफ़ साइंस पर प्रदर्शन किया था फिर बेल की यह प्रदर्शन धीरे-धीरे चर्चा होने लगी, परन्तु कोई भी टेलीग्राफ कंपनी इस प्रदर्शन को व्यावसायिक रूप से बाजार में लेजाने के लिए तैयार ही नहीं थी और बाद में यह प्रदर्शन पूरी देश में मशहूर हो गया।

स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल कोन थे ?

स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल

अलेक्जेंडर ग्राहम बेल, (जन्म 3 मार्च, 1847, एडिनबर्ग, स्कॉटलैंड- 2 अगस्त, 1922 को मृत्यु हो गई, बेइन भ्रेघ, केप ब्रेटन द्वीप, नोवा स्कोटिया, कनाडा), स्कॉटिश मूल के अमेरिकी आविष्कारक, वैज्ञानिक और बधिरों के शिक्षक जिनकी प्रमुख उपलब्धियां हैं टेलीफोन का आविष्कार (1876) और फोनोग्राफ (1886) का शोधन थे।

अलेक्जेंडर (“ग्राहम” को 11 साल की उम्र तक नहीं जोड़ा गया था) का जन्म अलेक्जेंडर मेलविले बेल और एलिजा ग्रेस साइमंड्स से हुआ था। उनकी मां लगभग बहरी थीं, और उनके पिता ने बधिरों को वाक्पटुता सिखाई, जिसने सिकंदर के बाद के करियर की पसंद को बधिरों के शिक्षक के रूप में प्रभावित किया। 11 साल की उम्र में उन्होंने एडिनबर्ग में रॉयल हाई स्कूल में प्रवेश किया, लेकिन उन्होंने अनिवार्य पाठ्यक्रम का आनंद नहीं लिया, और उन्होंने 15 साल की उम्र में स्नातक किए बिना स्कूल छोड़ दिया। 1865 में परिवार लंदन चला गया। सिकंदर ने जून 1868 में यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के लिए प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की और शरद ऋतु में वहां मैट्रिक किया। हालाँकि, उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी नहीं की, क्योंकि 1870 में बेल परिवार फिर से चला गया, इस बार 1867 में बेल के छोटे भाई एडवर्ड और 1870 में बड़े भाई मेलविल की मृत्यु के बाद, दोनों तपेदिक के कारण कनाडा में आकर बस गए। परिवार ब्रेंटफोर्ड, ओंटारियो में बस गया, लेकिन अप्रैल 1871 में सिकंदर बोस्टन चले गए, जहां उन्होंने बोस्टन स्कूल फॉर डेफ म्यूट्स में पढ़ाया। उन्होंने नॉर्थम्प्टन, मैसाचुसेट्स में क्लार्क स्कूल फॉर द डेफ और हार्टफोर्ड, कनेक्टिकट में अमेरिकन स्कूल फॉर द डेफ में भी पढ़ाया।

दोस्तों, अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने सिर्फ टेलीफोन का ही आविष्कार नहीं किया उसके साथ साथ उन्होंने और भी बहुत सी टेक्नोलॉजी का आविष्कार किया था जैसे कि बैल, ऑप्टिकल फाइबर सिस्टम, फोटो फोन, मेटल डिटेक्टर, डेसिमल यूनिट जैसे कई आविष्कार किए हैं। लेकिन उनकी मुख्य पहचान टेलीफोन के आविष्कारक के रूप में ही की जाती है।

वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने टेलीफोन आविष्कार के बाद ही प्रसिद्धि प्राप्त की थी परन्तु उनके अन्य आविष्कारों में मेटल डिटेक्टर, ऑडियोमीटर, फोटोफोन, हाइड्रोफिल और एयरोनॉटिक्स भी शामिल थे।

यह भी पढ़े : Bharat me kul kitne jile hain? क्या आप जानते है भारत में कुल कितने जिले है ?

थॉमस ऑगस्ट वॉटसन कोन थे ?

थॉमस ऑगस्ट वॉटसन

अमेरिकन टेलीफोन अग्रणी और शिपबिल्डर्स व् बेल टेलीफोन कंपनी के मूल आयोजकों में से एक थॉमस ऑगस्ट वॉटसन का जन्म जन्म 18 जनवरी, 1854, सलेम, मैसाचुसेट्स, यू.एस. में हुआ था। जिन्होंने बाद में जहाज निर्माण और संयुक्त राज्य सरकार के लिए कई जहाजों का निर्माण किया।

थॉमस ऑगस्टस वाटसन ने सिर्फ 14 साल की उम्र में ही स्कुल छोड़ दिया था। घर की परिस्थिति को देख स्कुल छोड़ने के बाद वॉटसन ने एक बिजली की दूकान में काम करना शुरू किया था। और उस वक्त वॉटसन की मुलाक़ात एकमहान वैज्ञानिक एलेक्ज़ेंडर ग्रेहम बेल से हुई। इस मुलाक़ात के बाद वॉटसन ने अपने टेलीफोन प्रयोगों पर बेल के साथ बड़ी ईमानदारी के साथ काम किया। और इस मुलाक़ात के बाद 10 मार्च 1876 को, दूसरे कमरे में स्थित एक संचारण उपकरण से तार से जुड़े एक रिसीवर के माध्यम से, वाटसन ने बेल की प्रसिद्ध पहली टेलीफोन कॉल सुनी। और इस बड़ी सफलता को वॉटसन ने बाद में “श्रीमान” के रूप में याद किया। वाटसन-यहाँ आओ-मैं तुम्हें चाहता हूँ।” (“Mr. Watson—come here—I want you.”)

इस आविष्कार के बाद अगले कई सालो तक जो भी प्रदर्शनिया शानदार और व्यापक रूप से रिपोर्ट की गई, उन सभी आविष्कार की शक्तियों का प्रदर्शन करने में एलेक्ज़ेंडर ग्रेहम बेल के साथी थॉमस ऑगस्टस वाटसन ने उनका भरपूर साथ दिया। इतनी सारीबड़ी सफलताओ को हासिल करने के बाद सन 1877 में जब एलेक्ज़ेंडर ग्रेहम बेल द्वारा स्थापित बेल कंपनी का गठन हुआ तो थॉमस ऑगस्टस वाटसन को इस कंपनी में एक अहम् हिस्सा मिला और उसमे वह इसके अनुसंधान और तकनीकी विकास के प्रमुख बन गए।

लेकिन कंपनी के गठन के कुछ सालो बाद सन 1881 में थॉमस बेल कंपनी को छोड़ देते है। थॉमस बेल कंपनी को छोड़ने के बाद टेलीफोन पर रॉयल्टी के अपने हिस्से से स्वतंत्र रूप से अमीर बना। इस घटना के बाद थॉमस ने यूरोप की यात्रा की, शादी की, एक परिवार शुरू किया, और बोस्टन के पूर्व ब्रेंट्री, मैसाचुसेट्स, दक्षिण-पूर्व में वेमाउथ फोर नदी के किनारे खेती करने का असफल प्रयास किया। उसके बाद सन 1885 में थॉमस ने अपनी कृषि सम्पति पर एक इमारत में एक मशीन की दूकान खोली। दूकान खोलने के बाद फ्रैंक ओ वेलिंगटन के साथ साझेदारी में एक नया व्यवसाय फोर रिवर इंजन कंपनी शुरू किया।

दो साझेदारों ने पहले समुद्री इंजन का निर्माण किया, और फिर 1896 में उन्हें दो विध्वंसक के लिए अपना पहला सरकारी अनुबंध प्राप्त हुआ। अगले आठ वर्षों के दौरान, वाटसन ने शिपयार्ड को पास के क्विंसी, मैसाचुसेट्स में स्थानांतरित कर दिया, बढ़ती कंपनी का नाम बदलकर फोर रिवर शिप एंड इंजन कंपनी कर दिया, और लाइटशिप, क्रूजर, युद्धपोत, स्कूनर और अन्य जहाजों के निर्माण के लिए अनुबंध किया।

जैसे-जैसे पोत पूरा होने के करीब होता है, कई परीक्षण किए जाते हैं। नौसैनिक वास्तुकार तैयार जहाज के वजन का सावधानीपूर्वक मूल्यांकन करता है और एक साधारण झुकाव प्रयोग से प्राप्त जहाज के हल्के और गुरुत्वाकर्षण के केंद्र के डेटा के संदर्भ में इसकी स्थिरता और लोडिंग विवरणों की जांच करता है। झुकाव परीक्षण गणनाओं पर एक जांच भी प्रदान करता है।

यह भी पढ़े : PM Kisan Samman Beneficary Status 2022 : Check Payment Status

इस प्रकार थॉमस एक दूकान में काम करने वाले से लेकर एक अच्छे बिज़नसमेन व् सफल वैज्ञानिक की नजरो से देखा जाता है। उन्होंने अपने जीवनकाल के दरमियान बहोत सफलता हासिल की।

आखिर कैसे हुआ था टेलीफोन का आविष्कार

दोस्तों इस आर्टीकल में जैसे की हमने आपको बताया है की टेलीफोन का आविष्कार कब हुआ और इस यन्त्र का आविष्कार करने वाले महान वैज्ञानिक कोन थे। लेकिन आपके मन में ये सब जानने के बाद एक सवाल तो जरूर खड़ा हुआ होगा की इस टेलीफोन का आविष्कार आखिर हुआ तो हुआ कैसे इसका आविष्कार करने का वैज्ञानिकों को विचार कैसे आया होगा ? इस बात को आपके मन से दूर करने के लिए हम आपको बताएँगे की इसका आविष्कार कैसे हुआ।

इस लेख को यहाँ तक पढ़ते हुए आपको यह तो पता ही होगा की टेलीफोन का आविष्कार अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था। लेकिन इस आविष्कार के पीछे भी एक कहानी है। आपको यह तो पता ही होगा की एलेक्ज़ांडर की माँ और एक पत्नी दोनों बहेरी थी। वह उनकी बातो को अच्छे से समज़ता था और उसे ध्वनि के बारे में बहोत जानकारी भी थी। लेक्जेंडर ग्राहम बेल का मानना था कि टेलीग्राफ तार के जरिए ध्वनि को सिग्नल में बदला जा सकता है और उसकी इस विषय पर काफी रूचि थी और उस रुचि के चलते उसने इस विषय पर काफी रिसर्च भी करी| उन दिनों अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के साथ थॉमस वाटसन ने उनका टेलीफोन के आविष्कार करने में एक महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

यह भी पढ़े : Instagram par followers badhane wala app || इंस्टाग्राम पर फॉलोवर्स बढ़ाने वाला ऐप

टेलीग्राफ के जरिये ध्वनि भेजने के ऊपर एलेक्ज़ांडर ग्राहम बेल और थॉमस काफी समय से शंसोधन कर रहे थे। परन्तु उनको सफलता नहीं मिल रही थी। फिर एक दिन क्या हुआ की एलेक्ज़ेंडर और वॉटसन अपनी खोज में मग्न थे। उस दौरान वॉटसन ऊपर के कमरे में गए हुए थे और बेल निचे के कमरे में काम कर रहे थे। तभी अचानक बैल के पेण्ट पर हल्का सा तेज़ाब गिर जाता है। जैसे उनके ऊपर तेज़ाब गिरा उन्होंने एलेक्ज़ेंडर को मदद के लिए आवाज लगाईं पहले तो उन्हें यह सब कुछ सामान्य लग रहा था।

फिर अचानक वाटसन को यह बात महसूस होती हिअ की जो आवाज वह सुन रहे है वह उनके पास रखे हुए उपकरण में से आ रही है । यह वही दिन था जिस दिन एलेक्ज़ेंडर ग्रेहम बेल ने टेलीफोन का आविष्कार किया। यह आविष्कार २ जून १८७५ को हुआ था। फिर आगे चलकर १८७६ में उन्हें आधिकारिक रूप पर टेलीफोन के आविष्कारक के रूप में स्वीकार किया गया।

भारत में टेलीफोन का आविष्कार कब हुआ था ?

सन १८८१ में भारत में सबसे पहले ‘ओरिएंटल टेलीफोन कंपनी लिमिटेड इंग्लैंड’ द्वारा कोलकाता, मद्रास (चेन्नई), बोम्बे, और अहमदाबाद में टेलीफोन एक्सचेंज स्थापित किये थे। २८ जनवरी १८८२ में कुल ९३ ग्राहकों के साथ प्रथम औपचारिक टेलीफोन सेवा भारत में शुरू की गई। इससे पहले १८८० में भारत में २ टेलीफोन कम्पनिया एंग्लो इंडियन टेलीफोन कंपनी लिमिटेड और द ओरिएंटल टेलीफोन कंपनी लिमिटेड ने टेलीफोन एक्सचेंज की स्थापना करने के लिए सरकार से संपर्क किया था|

इसके लिए इन कंपनियों ने सरकार से अनुमति लेने की कोशिश करी थी| परंतु सरकार ने इस बात के लिए अस्वीकृत कर दिया था क्योंकि टेलीफोन की स्थापना का काम सरकार खुद करना चाहती थी। फिर 1881 में सरकार ने इंग्लैंड की ओरिएंटल टेलीफोन कंपनी लिमिटेड को मुम्बई, कोलकाता, चेन्नई (मद्रास) और अहमदाबाद में टेलीफोन एक्सचेंज खोलने के लिए लाइसेंस दे दिया और इस तरह 1881 में भारत में देश की पहली औपचारिक टेलीफोन सेवा की स्थापना हुई|

टेलीफोन कैसे काम करता है ?

अगर हमें टेलीफोन के काम करने के तरीको को सही से समझना है तो तो टेलीफोन किसी भी९ व्यक्ति की आवाज को एक सिग्नल में बदलता है। और किसी अन्य डिवाइस की मदद से यह सिग्नल सामने जो व्यक्ति बात कर रहा होता है उसको आवाज के रूप में मिलता है। उसे यह सिग्नल ध्वनि के रूप में सुनाई देता है।

परन्तु आज के समय में वही यह बात करहने की प्रक्रिया हम मोबाईल फोन की मदद से भी की जाने लगी है। जिससे इंसान चलते फिरते हुए भी सामने वाले से मोबाईल के जरिये बात कर सकता है। लेकि अगर हम पुराने समय की बात करे तो तब ऐसा नहीं था। पहले टेलीफोन में तार का इस्तेमाल किया जाता था। और उसके तार की मदद से ही आपकी आवाज सामने वाले के टेलीफोन में पहुँचती थी।

अभी तक हमने आपको बताया कि टेलीफोन क्या होता है और यह कैसे काम करता है और उसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है परंतु अब हम बात करेंगे कि टेलीफोन का आविष्कार किसने किया था और कब किया था?

अभी के समय के स्मार्टफोन की क्या सुविधा है?

स्मार्टफ़ोन होने से हमें बोहत सुबिधा मिलती है, क्युकी पहले के समय में जब टेलीफ़ोन था तब लोग अपना संदेश भेजने के लिए चिट्ठियों का उपोयग करते थे और अब स्मार्टफ़ोन होने से कोई भी व्यक्ति किसी भी दूसरे व्यक्ति के साथ बात करना चाहे तो बह ब्यक्ति दुनिया के किसी कोने में बैठा हो तो भी उससे बात कर सकता है।

यह भी पढ़े : यूट्यूब से वीडियो कैसे डाऊनलोड करे? यूट्यूब से वीडियो डाऊनलोड करने वाला ऐप

इसके आलावा भी स्मार्टफ़ोन के जरिये बात करने के साथ साथ बहुत कुछ कर सकता है, जैसेकि : गेम खेलना, गाना सुन्ना, इंटरनेट के मद्धम से वीडियो देखना, कोई भी तस्वीर देखना, सोशल मीडिया का इस्तेमाल, सिनेमा देखना इसके अलाबा भी आप स्मार्टफ़ोन में विडिओ कॉल पर बात भी कर सकते हो जो कभी टेलीफ़ोन में नहीं होगा

टेलिफॉन पर हेलो शब्द क्यों बोला जाता है ?

जब टेलीफोन का आविष्कार ग्रेहम बेल ने किया था तो आपको यह बात जानकार बड़ी हैरानी होगी की उन्होंने एक ही तरह के दो टेलीफोन बनाए थे| जिसमें एक टेलीफोन उन्होंने अपने पास रखा और एक टेलीफोन अपनी गर्लफ्रेंड को दे दिया था| जिसका नाम मार्ग्रेट हेल्लो था।

जब बेल ने एक फोन अपनी गर्लफ्रेंड को दिया और इसके बाद सभी तकनिकी कमिया दूर करने के बाद जब सबसे पहले एलेक्ज़ेंडर ग्रेहम बेल ने अपना दुसरा फोन अपनी गर्लफ्रेंड मार्टिन हेलो को दिया था। तब उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड का नाम बड़े ही प्यार से हेलो कहकर पुकारा। इस तरह फोन उठाते ही हेलो कहना एक सम्बोधन के रूप में प्रचलित हो गया और आज भी हम जब किसी को फोन करते है, तो सबसे पहला शब्द हेलो का इस्तेमाल किया जाता है।

Conclusion (निष्कर्ष)

तो दोस्तों अब आप जान चुके हैं कि टेलीफोन का आविष्कार किसने किया था कब किया था, telephone ka avishkar, telephone kisne banaya, telephone ka aavishkar kab hua tha उम्मीद करते हैं कि आपके इस जानकारी से संबंधित जो भी सवाल हैं उनके आपको जवाब मिल गए होंगे। और भी ऐसी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे साथ ऐसे ही जुड़े रहे। अगर आपको इस जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट है तो आप हमें नीचे कमेंट भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़े : वाहन मालिक का नाम जानने के लिए यहाँ क्लिक करे

FAQs For क्या आप जानते है, टेलीफोन का आविष्कार किसने और कब किया?

1. टेलीफोन का आविष्कार कब हुआ था ?

टेलीफोन का आविष्कार 2 जून 1875 में हुआ था और इस आविष्कार में टेलीफोन के आविष्कारक माने जाते अलेक्जेंडर ग्राहम बेल थॉमस वाटसन ने सहायता की थी।

2. भारत में सबसे पहला टेलीफोन कब आया था ?

भारत में सबसे पहले टेलीफोन 1881 में आया था|

3. टेलीफोन की खोज कहा हुई थी ?

टेलीफोन यंत्र का आविष्कार 2 जून, 187 को स्कॉटलैंड के वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था।

4. टेलीफोन का आविष्कार किसने किया था ?

टेलीफोन का आविष्कार स्कॉटिश वैज्ञानिक एलेक्ज़ांडर ग्रेहम बेल ने किया

Leave a Comment